Harda Blast : पटाखा फैक्‍ट्री में आठ साल का बेटा खाना देने आया था, पिता की आंखें ढूंढ रही – Harda Blast Search for the eight year old son who came to give food to his father in the firecracker factory

harda-blast-:-पटाखा-फैक्‍ट्री-में-आठ-साल-का-बेटा-खाना-देने-आया-था,-पिता-की-आंखें-ढूंढ-रही-–-harda-blast-search-for-the-eight-year-old-son-who-came-to-give-food-to-his-father-in-the-firecracker-factory

Harda Blast : पटाखा फैक्‍ट्री में आठ साल का बेटा खाना देने आया था, पिता की आंखें ढूंढ रही – Harda Blast Search for the eight year old son who came to give food to his father in the firecracker factory

Harda Blast : पटाखा फैक्ट्री से दौड़ लगाकर राजू दयोदय गौशाला पहुंचे। यहां पर उन्होंने अपने बेटे गणेश के बारे में पूछा।

द्वारा Hemant Kumar Upadhyay

प्रकाशित तिथि:

बुधवार, 07 फरवरी 2024 08:30 पूर्वाह्न (IST)

अद्यतन दिनांक:

बुधवार, 07 फरवरी 2024 08:30 पूर्वाह्न (IST)

पर प्रकाश डाला गया

  1. मगरधा रोड पर बैरागढ़ में पटाखा फैक्ट्री और गोदाम में लगी आग का मामला
  2. पिता को खाना देने के लिए आया उसका लाड़ला लापता हो गया।
  3. गौशाला की गाय भी धमाकों से सहमी

नईदुनिया प्रत‍िन‍िध‍ि, हरदा। शहर के मगरधा रोड पर बैरागढ़ में पटाखा फैक्ट्री और गोदाम में लगी आग से जोर से धमाका हुआ। इसमें पिता को खाना देने के लिए आया उसका लाड़ला लापता हो गया। जिसे उनके पिता की आंखें बैचेन होकर ढूंढ रही है। जगह-जगह बेटे का चेहरा देखने के लिए दौड़ रही हैं, लेकिन बेटा मिल रहा। वे किसी से बेटे के बारे में सवाल पूछने पर लोग उनसे फैक्ट्री में मौजूद मजदूराें की संख्या पूछ लेते। वे फिर सहम जाते और चुप्पी साधे बेटे गणेश को खोजने लगते।

पटाखा फैक्ट्री से दौड़ लगाकर राजू दयोदय गौशाला पहुंचे। यहां पर उन्होंने अपने बेटे गणेश के बारे में पूछा। राजू ने बताया वे जहां आग लगी उससे कुछ ही दूरी पर बने दूसरे गोदाम में वे काम कर रहे थे। आग लगने से धमाका होते ही फैक्ट्री से बाहर की ओर भागे, वहां पर आठ वर्षीय बेटे गणेश को देखा, लेकिन नहीं मिला, तब से वे उसे खोज रहे हैं। उन्हाेंने बताया कि उनका बेटा टिफिन देने के लिए आया था, लेकिन अबतक नहीं मिल रहा है।

गौशाला की गाय भी धमाकों से सहमी

दयोदय गौशाला की गाय भी काम करने वाले राजमल नागवे ने बताया कि वे गाैशाला में काम करते हैं। धमाका बहुत तेज और भयावह था। जिससे गौशाला की गाय भी सहम गई। उन्होंने बताया कि फैक्ट्री से उछले पत्थर और मलबे से टुकङाें से गौशाला की दीवार में छेद तक हो गए। इसके साथ ही खिड़की के कांच भी फूट गए।

क्लास में दो छात्राएं बेहोश

खंडवा रोड पर स्थित औद्योगिक प्रशिक्षण केंद्र में करीब 60 बच्चे कक्षा में पढ़ाई कर रहे थे। इस दौरान फैक्ट्री में धमाकों से औद्योगिक प्रशिक्षण केंद्र की कक्षा में कांच टूटकर गिर गए। धमाकाें की गूंज से दो छात्राएं बेहोश हो गई। औद्योगिक प्रशिक्षण केंद्र की फीटर टेंड से छात्र अंकित नागराज ने बताया कि धमाकों में दो छात्राएं बेहोश हो गई। जिन्हें घर पहुंचाया गया।

  • लेखक के बारे में

    प्रिंट मीडिया में कार्य का 33 वर्ष का अनुभव। डिजिटल मीडिया में पिछले 9 वर्ष से कार्यरत। पूर्व में नवभारत इंदौर और दैनिक जागरण इंदौर में खेल संपादक और नईदुनिया इंदौर में संपादकीय विभाग में अहम जिम्‍मेदारियों का

You may have missed